9044032292+91 9044042292Call Nowemail:-cpiapvtltd@gmail.com
  • Trust Our Experience To
    Manage Your Business

Cpia Provides 100% Job Assistance "Selected Toppers Students of CPIA"

10 + 2 के बाद पढाई भी नौकरी भी


आर्थिक उदारीकरण (Economic Liberalisation) के इस दौर में कॉमर्स (Commerce) का क्रेज अंतरराष्ट्रीय स्तर (International Level ) पर बहुत तेजी से बढ रहा है। इसका कारण है कि अधिकतर कंपनियों में कॉमर्स बैकग्राउंड (Commerce Background) वालों के लिए नौकरियां (Jobs) निकलती ही रहती हैं। जिस तरह भारत में विदेशी कंपनियों (Foreign Companies) की आमद बढी है, कॉमर्स (Commerce) के लोगों के लिए स्कोप (Scope) भी बढ गये हैं। लेकिन इस फील्ड में कॉमर्स के अलावा भी अन्य स्ट्रीम (Stream) के स्टूडेंट (Student) सीए (Chartered Accountant), आईसीडब्ल्यूए (The Institute of Cost and Works Accountants of India) के अलावा अकाउंटिंग (Accounting) से जुडे शार्ट टर्म कोर्स (Short Term Courses) करके अच्छा रोजगार हासिल कर सकते हैं।

कम्प्यूटर नॉलेज जरूरी (Computer knowledge)

अकाउंटिंग (Accounting) की नौकरी जिम्मेदारी की नौकरी है। जिसमें पाई-पाई का हिसाब रखना होता है। व्यापार के बदलते ट्रेंड (Trend) ने अब अकाउंटिंग क्षेत्र को बहुत हद तक बदल दिया है। अब इसमें लगभग सारा काम कम्प्यूटरों पर ही किया जा रहा है।

इसके लिए कई विशेष सॉफ्टवेयर (Software) जैसे टैली (Tally.ERP-9, Busy, Marg.ERP+, & Advance Ms. Office) आदि का भी निर्माण किया गया है। इस सॉफ्टवेयर (Software) का कोर्स करके अकाउंटिंग की फील्ड (Field) में जाना निश्चित रूप से फायदेमंद होगा। यहां पर इस बात पर ध्यान देना जरूरी है कि अकाउंटिंग से जुडे कम्प्यूटर कोर्स (Computer Courses) उन्हीं संस्थानों (Institution) से करें जो बेसिक के साथ-साथ (Tally.ERP-9, Busy, Marg.ERP+, & Advance Ms. Office) आदि के (Latest Version or original Softwares ) पर अभ्यास कराते हों।


AmazingCounters.com
Back to Top